Song of Freedom/आजादी की गीत

103

On 22 May 2018, more than 10 people killed in police firing at a massive rally demanding a closure of a Vedanta Group Unit in Tuticorin, Tamilnadu. Following media reports, it appears that people were protesting and accusing the unit responsible for air and water pollution. It was 100th of protests demanding the closure of the unit to avoid health hazards in the surrounding area due to the plant. Sadly, people protesting for clear water and air were killed. I made me hurt. I write a poem in support of the martyrs who lost their life for preserving the environment, water, and air for present and future generation of humanity. Before that, I am quoting the speech of Nehru given at Lucknow Session of the Congress in 1936. He said:

“The future has no place for autocracy or feudalism; a free India cannot tolerate the subjection of many of its children and their deprivation of human rights, nor can it ever agree to a dissection of its body and a cutting up of its limbs. If we stand for any human, political, social or economic rights for ourselves, we stand for those identical rights for the people of the states.” 

गन्दा पानी, सुखी रोटी,
आज भी वह खाता है,
जीवन के इस पथ पर भी, 
आजादी की गीत गाता है |

घूब लड़ा था बापू ने,
इस देश को आजाद कराने में,
बहुत मरे और बहुत कटे,
भारत को जीत दिलाने में |

चिंता की चिताएं जली थी,
जब आजादी पाई थी,
उम्मीद जगी थी अरमानो की,
जब नेहरु ने आधी रात,
सपनो की मिसरी बरसाई थी|

यहाँ खड़ा ये देश मेरा,
अब यह है सोच रहा,
तूतीकोरिन मरने वाले पर,
दुःख का अश्रु बोल रहा|

पूछ रहा है चिल्लाकर २
क्या कसूर था उनका,
गोलियों से जिसको भुन दिया,
ऐसा लगता है जैसे,
आजादी के सपनो को,
तुमने उनसे छीन लिया|

कह दो अब उनको तुम,
वो आजादी झूठी थी,
वो तो बस सत्ता थी जिसको,
मैंने सन सैतालिस में जीती थी |

जीती थी हमने बस,
राज काज चालने को,
लिखी थी हमने मोटी किताबे,
दुनिया और देश को बहलाने को|

अगर नहीं यह सच है तो,
तूतीकोरिन के अनाथ बच्चे को,
तुमको यह बतलाना होगा,
गुलाम भारत और आजाद भारत में,
फर्क तुम्हे बतलाना होगा |